विवेक चूड़ामणि गीता प्रेस गोरखपुर Pdf | Vivekchudamani Pdf in Hindi

Vivekchudamani Pdf in Hindi

[INSERT_ELEMENTOR id=”3567″]

क्या आप Vivekchudamani Pdf in Hindi Download करना चाहते हो और डाउनलोड करके विवेक चूड़ामणि गीता प्रेस गोरखपुर Pdf पढ़ना चाहते हो यदि हां तो आप बिल्कुल सही जगह पर हैं क्योंकि आज के इस लेख के माध्यम से मैं आपको Vivekchudamani Pdf in Hindi Download Link उपलब्ध कराने वाला हूं जिसे अपने फोन में कंप्यूटर में डाउनलोड करके पढ़ सकते हैं.

दोस्तों जब बात आती है हमें अपने आपको जानने की भगवान को जानने की और संसार की सच्चाई क्या है तब हमें शंकराचार्य द्वारा लिखित विवेक चूड़ामणि को एक बार जरूर पढ़ना चाहिए इसमें हमारे कई ऐसे प्रश्नों का उत्तर मिलता है जिनके बारे में हम पूरे जीवन में भटकते रहते हैं परंतु इसके पढ़ने के बाद आपके कई सारे प्रश्नों के आपको जवाब मिलेंगे और आप अपने जीवन को ऊंचाई में ले जाएंगे और कुछ बड़ा करने की सोच रखेंगे

PDF Nameविवेक चूड़ामणि गीता प्रेस गोरखपुर(Vivekchudamani Pdf)
CategorySprituality
Languageहिंदी
Size153
Pages8.89MB
Writerगुरु शंकराचार्य
Download LinkAvailable
Vivekchudamani Pdf in Hindi

विवेक चूड़ामणि गीता प्रेस गोरखपुर(Vivekchudamani Pdf)

दोस्तों विवेक चूड़ामणि को गुरु शंकराचार्य द्वारा लिखा गया था  जिसमें ईश्वर या ब्रह्मा के अस्तित्व और स्वरूप पर हमेशा से प्रश्न उठते आए हैं  ब्रह्म सूत्र के प्रथम सूत्र में भगवान वेद व्यास ने कहा है अथातो ब्रह्म जिज्ञासा अर्थात ब्रह्म जानने की जिज्ञासा   जिसे मीमांसा भी कहा जाता है और मीमांसा का अर्थ है जिज्ञासा.

 कुछ लोग होते हैं जो भगवान पर प्रश्न उठाते हैं वह बोलते हैं भगवान नहीं है क्योंकि उनको इसके बारे में सच्चाई पता नहीं होती इसके बारे में लोग अलग-अलग विचारधाराएं प्रस्तुत करते हैं यही बताया जाता है अहम ब्रह्मास्मि मतलब हम ही ब्रह्म है

या फिर यह कहा जा सकता है कि हम भगवान है लेकिन इसका अर्थ यह है कि भगवान हर एक जगह भगवान कोई ढूंढ नहीं सकता क्योंकि भगवान सभी में है हर जगह पर हैं आज जो भी है सब भगवान की वजह से ही है.

 गुरु शंकराचार्य ने बताया है कि जीवो में सबसे दुर्बल चैनल का होता है और उसमें भी सबसे दुर्बल पुरुषत्व का होता है और उससे भी अधिक  कठिन है

ब्राह्मणों का मिलना  लेकिन उससे भी अधिक कठिन है विद्वता का होना इतना ही नहीं यह सब कुछ होने पर भी आत्मा और परमात्मा का विवेक संयम अनुभव ब्रह्मा भाव से स्थिति और मुक्ति यह तो कार करोड़ों चरणों में किए गए शुभ कार्यों के परिवार के बिना प्राप्त हो ही नहीं सकता

 दोस्तों इसमें आपकी ऐसे कई सारे प्रश्नों के उत्तर मिलने वाले हैं

जो आपके मन में आते हैं जो भगवान के होने या ना होने से आपके मन में घर कर जाती  यदि आपके मन में भी इस प्रकार के प्रश्न आते हैं तो दोस्तों आप इस पुस्तक को जरूर पढ़ें इससे आपके प्रश्नों के जवाब मिलेंगे और आपका मन भी हल्का होगा.

यह भी पढ़ें:-

Vivekchudamani Pdf in Hindi Download

दोस्तों अगर आप लोग Vivekchudamani Pdf in Hindi Download करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको बहुत ही आसानी से नीचे दिए गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करना है और विवेक चूड़ामणि गीता प्रेस गोरखपुर Pdf अपने फोन में कंप्यूटर में डाउनलोड कर लेना है इसे आप डाउनलोड करने के बाद आप जब भी चाय से पढ़ सकते हैं क्योंकि इसमें इंटरनेट की भी आवश्यकता नहीं पड़ती है 

[INSERT_ELEMENTOR id=”3567″]

[adfoxly place=’3961′]

[adfoxly place=’3961′]

Conclusion

दोस्तों आज के इस लेख के माध्यम से मैंने आपको Vivekchudamani Pdf in Hindi Download link उपलब्ध कराया है यदि आपने अभी तक डाउनलोड नहीं किया है तो ऊपर दिए गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करके आप विवेक चूड़ामणि गीता प्रेस गोरखपुर Pdf अभी डाउनलोड कर सकते हैं और अपने अंदर आने वाले भगवान या ब्रह्म से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तरों को जान सकते हैं और आपके मन में मची हुई खलबली को शांत कर सकते हैं यदि आपको Vivekchudamani Pdf डाउनलोड करने में किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो आप नीचे कमेंट में बता सकते हैं मैं आपकी समस्या का समाधान करने की पूरी कोशिश करूंगा

यह भी पढ़ें:-

Sharing Is Caring:

Leave a Comment