सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download

sarvepalli radhakrishnan books pdf

[INSERT_ELEMENTOR id=”3567″]

क्या आप सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download करना चाहते हैं और Download करके पढ़ना चाहते हैं जिससे आप अपनी आने वाली परीक्षाओं के लिए तैयारी भी कर सकते हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर हैं क्योंकि आज के इस पोस्ट के माध्यम से मैं आपको सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download उपलब्ध कराने वाला हूं.

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन अपने समय के एक महान लेखक होने के साथ-साथ एक महान नीति के तथा हमारे पूर्व राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के पद पर भी कार्य कर चुके हैं इनकी लिखी हुई पुस्तकों के नाम तथा पीडीएफ डाउनलोड लिंक नीचे आपको लगता है वहां से आप डाउनलोड कर सकते हैं.

PDF Nameसर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF
No. of Pages3
PDF Size0.09 MB
LanguageEnglish
CategoryEducation & Jobs
QualityBest
Download LinkAvailable
Writerसर्वपल्ली राधाकृष्णन
सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download

दोस्त इन्हें भी पढ़ें:

सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF

दोस्तों डॉक्टर सर्वपल्ली  राधाकृष्णन जी एक प्रसिद्ध भारतीय दार्शनिक और राजनीतिक होने के अलावा यह भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति के रूप में भी कार्य कर चुके हैं इनका कार्यकाल 1952 से 1962 तक था.  तथा उन्होंने 1962 से 1967 तक भारत के दूसरे राष्ट्रपति के रूप में भी कार्य किया है.

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन 5 सितंबर 18 को हुआ था 17 अप्रैल 1975 को हुई थी इन्होंने अपने जीवन काल में कई पुस्तकें लिखी जो कि आज के समय में भी पाठकों के द्वारा बहुत ही पसंद की जाती है तथा इन्होंने भारतवर्ष के बारे में अपने विचार तथा महानता के बारे में भी बताया है.

 1939 से 1948 तक बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के कुलपति भी रहे  जिन्होंने अपने पद भार को  बहुत ही अच्छे से निभाया है और उन्हीं के कार्यों की वजह से आज इनको संपूर्ण भारत में याद किया जाता है.

 नीचे आपको सर पल्ली राधाकृष्णन की सभी पुस्तकों के नामों के बारे में पता चलेगा तथा यदि आप पीडीएफ डाउनलोड करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए डाउनलोड पर क्लिक करके डाउनलोड कर सकते हैं.

सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें

  • डॉ राधाकृष्णन जी की पहली पुस्तक फिलॉसफी ऑफ रवींद्रनाथ टैगोर जो वर्ष 1918 में प्रकाशित हुई थी।
  • दूसरी पुस्तक इंडियन फिलॉसफी जो 1923 में प्रकाशित हुई थी।
  • तीसरी पुस्तक द हिंदू व्यू ऑफ लाइफ जो 1926 में प्रकाशित हुई थी।
  • पुस्तक जीवन का एक आदर्शवादी दृष्टिकोण जो 1929 में प्रकाशित हुई थी।
  • पांचवी पुस्तक कल्कि द फ्यूचर ऑफ सिविलाइजेशन जो 1929 में ही प्रकाशित हुई थी।
  • छठी पुस्तक ईस्टर्न रिलिजन्स एंड वेस्टर्न थॉट जो 1939 में प्रकाशित हुई थी।
  • सातवीं पुस्तक धर्म और समाज जो 1947 में प्रकाशित हुई थी
  • उन्होंने भगवद्गीता: एक परिचयात्मक निबंध के साथ, संस्कृत पाठ, अंग्रेजी अनुवाद और नोट्स 1948 में प्रकाशित किए थे।
  • आठवीं पुस्तक पुस्तक द धम्मपद जो 1950 में प्रकाशित हुई थी।
  • दसवीं पुस्तक द प्रिंसिपल उपनिषद जो 1953 में प्रकाशित हुई थी।
  • ग्यारवीं पुस्तक रिकवरी ऑफ फेथ जो 1956 में प्रकाशित हुई थी।
  • बारहवीं पुस्तक ए सोर्स बुक इन इंडियन फिलॉसफी जो 1957 में प्रकाशित हुई थी
  • तेरहवीं पुस्तक ब्रह्म सूत्र: आध्यात्मिक जीवन का दर्शन जो प्रकाशन 1959 में हुई थी
  • डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी की अंतिम पुस्तक धर्म, विज्ञान और संस्कृति जो 1968 में प्रकाशित हुई थी

सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download

दोस्तों यदि आप सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करके आप इसे बहुत ही आसानी से अपने फोन कंप्यूटर या फिर टैबलेट में डाउनलोड कर सकते हैं और बिना इंटरनेट की सुविधा के भी इसे जब चाहे तब पढ़ सकते हैं यह आप कहीं पर भी ले जा सकते हैं क्योंकि यह आपके फोन में हमेशा बना रहेगा

[INSERT_ELEMENTOR id=”3567″]

[adfoxly place=’3961′]

[adfoxly place=’3961′]

सर्वपल्ली राधाकृष्णन क्यों प्रसिद्ध है?

सर पल्ली राधाकृष्णन सिद्ध होने  के कई कारण है क्योंकि यह भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति तथा  द्वितीय राष्ट्रपति भी रहे इसके अलावा वे भारतीय संस्कृति के संवाहक प्रख्यात शिक्षाविद महान दार्शनिक और एक आस्थावान  हिंदू विचारक थे.

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के अनुसार शिक्षा क्या है?

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के अनुसार शिक्षा का काम साहित्य कला और व्यापार व्यवसाय को कुशल नेतृत्व उपलब्ध कराना है तथा अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित करना है जिससे मानव ऊर्जा और भौतिक संसाधनों में सामंजस्य पैदा किया जा सके.

राधाकृष्णन एक महान शिक्षक क्यों थे?

राधाकृष्णन को एक महान शिक्षक इसलिए कहा जाता है क्योंकि वह छात्रों को सर्वोत्तम शिक्षा प्रदान करने की कोशिश में हमेशा लगे रहे कथा छात्रों के प्रति इनका स्वभाव बहुत ही अच्छा होने के कारण उन्हें सभी छात्र बहुत ही प्यार करते थे और सम्मान भी करते थे.

हम 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में क्यों मनाते हैं?

शिक्षकों के प्रयासों और सेवा के लिए आभार प्रकट करने के लिए 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है तथा डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती भी मनाई जाती है.

Conclusion

 दोस्तों आज के इस लेख के माध्यम से मैंने आपको सर्वपल्ली राधाकृष्णन पुस्तकें PDF Download उपलब्ध कराया यदि आपने अभी तक डाउनलोड नहीं किया है तो ऊपर दिए थे डाउनलोड बटन पर क्लिक करके आप ही से अभी डाउनलोड कर सकते हैं और आज से ही इसका अध्ययन स्टार्ट कर सकते हैं

इसमें आपको बहुत सारी चीजें सीखने को मिलेंगे पता आप अपनी परीक्षाओं में आने वाले प्रश्नों को भी इसके माध्यम से हल कर पाएंगे जो कि आपके लिए काफी ज्यादा मददगार साबित होगा यदि आपको यह पीडीऍफ़ डाउनलोड करने में किसी भी प्रकार की समस्या आ रही है तो आप हमें नीचे कमेंट बता सकते हैं हम आपकी समस्या का समाधान करने की कोशिश करेंगे धन्यवाद!

दोस्त इन्हें भी पढ़ें:

Sharing Is Caring:

Leave a Comment