PHD Full Form in Hindi | पीएचडी की सम्पूर्ण जानकारी

PHD full form in hindi या PHD ka full form क्या होता हैं और what is the full form of phd? इसके आलवा PHD meaning in hindi आदि सभी जानकारी निम्न्लिखित हैं.

आपलोगों ने कई लोगो को देखा होगा जो लोग अपने नाम के आगे डॉक्टर लगते हैं जबकि के एक डॉक्टर नही होते तो आप लोगो के मन में यह सवाल जरूर आता होगा की PHD full form in hindi या PHD ka full form क्या है?

आज मैं आपके पीएचडी से सम्बंधित सभी प्रश्नों के उत्तर देने वाला हूँ जिससे आपको दोबार गूगल पर PHD full form in hindi या PHD ka full form सर्च करने की आवस्यकता नही पड़ेगी.

तो फिर चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की PHD ka full form क्या होता है?

Table of Contents

PHD Full Form in Hindi

सबसे पहले जब आप पीएचडी का नाम सुनते होंगे तो PHD Full Form in Hindi क्या ये प्रश्न आपके मन में जरूर आता होगा क्योकि यदि कोई व्यक्ति पीएचडी कर लेता हैं तो वह अपने विषय में विशेषग्य हो जाता हैं और वह अपने नाम के आगे डॉक्टर लिखने योग्य भी हो जाता है.

तो चलिए अब जानते हैं की PHD ka full form क्या होता हैं PHD ka full form निम्न्लिखित हैं.

PhDDoctor of Philosophy
phd ka full form

PhD का full form “Doctor of Philosophy” होता हैं और इसके बाद में हम जानते हैं की PHD Full Form in Hindi क्या होता हैं?

PhDडॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी
PHD Full Form in Hindi

Phd का फुल फॉर्म हिंदी में “डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी” होता हैं.

PhD क्या होता हैं?

पीएचडी का फुल फॉर्म “Doctor of Philosophy” अर्थात “डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी” होता हैं यह एक 3 से 5 वर्षो का कोर्स होता हैं जिसमे आपको सभी समेस्टर में पास होना पड़ता हैं इसके बार कई ऐसे लोग भी होते है जिनको यह कोर्स करने में 5 वर्षो से भी अधिक का समय लग जाता हैं

यह कोर्स करने के बाद व्यक्ति उस विषय का ज्ञाता या expert हो जाता है जिस विषय में उसने पीएचडी किया हुआ हैं उदहारण के लिए यदि आप गणित से पीएचडी करते हैं तो आप गणित के विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करके गणित के ज्ञाता बन जायेंगे. इसमें आपको गणित के सभी सवाल हल करने की छमता होग.

पीएचडी करने के बाद वह व्यक्ति एक प्रोफेसर के पद पर कार्य कर सकता हैं और Lecture दे सकता हैं आपको बता दें की एक प्रोफेसर किसी स्कूल में नही पढ़ता हैं वह बड़ी बड़ी यूनिवर्सिटीज में लेक्चर देता हैं .

इस कोर्स को पूरा करने के बाद में वह किसी भी कक्षा के विद्यार्थी को पढ़ा सकता हैं लेकिन वो सिर्फ एक विषय हि पड़ा सकता हैं जिस विषय में उसने पीएचडी की हुई हैं क्योकि उसे उस विषय में उसको सम्पूर्ण ज्ञान होता है.

पीएचडी करने के बाद में वह अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाने के योग्य हो जाता हैं यदि आपने कभी किसी वैज्ञानिक के नाम में थोडा ध्यान दें तो आपको पता चलेगा की वो लोग अपने नाम के आगे डॉक्टर लगते हैं. उदहारण के लिए आप Dr. A.P.J. Abdul Kalam जी को हि देख सकते हैं. इनके नाम के आगे डॉक्टर लगा हुआ हैं क्योकि ये अपने विषय के ज्ञाता हैं.

अगर आप चाहें तो आप अपने विषय में शोधकर्ता या खोजकर्ता भी बन सकते हैं और उस विषय में अपना योगदान भी दे सकते हैं ज्यादर वैज्ञानिको ने जो भी खोज की हैं वो उनके नाम से प्रसिद्ध हैं यदि आप भी कुछ ऐसा खोज लेते है तो आपका भी नाम अमर हो सकता हैं.

पीएचडी कैसे करें?

अभी हमने जाना की PHD Full Form in Hindi और पीएचडी क्या होता हैं इसके बाद हम जानेगें की पीएचडी कैसे करें. क्योकि काफी सारे ऐसे लोग हैं जिन्हें किसी न किसी विषय से बहुत हि ज्यादा लगाओ हैं और वो उस विषय के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो लोगों के लिए पीएचडी करना एक बहुत अच्छा विकल्प हो सकता हैं.

लेकिन पीएचडी करने के लिए आपके अन्दर कुछ योग्यताएं होनी बहुत आवश्यक हैं यदि आपलोगों के पास में ये योग्तायें नही तो आप आगे चलकर पीएचडी नही कर पाएंगे.

PhD कितने वर्षो का होता हैं?

यदि आप पीएचडी का कोर्स करते हैं तो इसमें आपको 3 से 5 वर्ष तक लग सकते हैं क्योकि यह एक ऐसा कोर्स हैं जिसमे आपको आपके विषय में हर एक प्रकार की जानकारी प्राप्त करवाई जाती हैं.

कोई जगहों पर पीएचडी 3 वर्षो का और कही पर 5 वर्षो का होता हैं अगर हम अपने देश भारत की बात करें तो इसमें आपको 5 वर्ष का कोर्स करना होता हैं और वाही आगे जापान की बात करे तो 3 वर्ष में हि हो जाता हैं.

पीएचडी कोर्स की फीस(PhD Course Fee)

पीएचडी के कोर्स की फीस कोई निश्चित नही होती हैं यह पूरी तरह से आपके कॉलेज पर निर्भर करता हैं कुछ कॉलेज में भी बहुत कम तो कुछ में बहुत अधिक होती हैं.

यदि हम average की बात करें तो २०००० से ४०००० रूपए तक फीस होती हैं अगर आपका कॉलेज अधिक सुवधाएँ दे रहा हैं तो उसमे आपको अधिक फीस भी देनी होगी और कं सुविधाए हैं तो कम फीस भी देनी पड़ेगी.

पीएचडी के लिए योग्यताएं(Eligibility For PhD)

PhD करने से पहले आपको इसकी जरूरी योग्यताओ के बारे में जान लेना चाहिये इससे आपको आगे चलकर किसी भी प्रकार की समस्या या जानकारी का आबहव नही रहेगा. पीएचडी के लिए महत्वपूर्ण योग्यताएं निम्न्लिखित हैं.

  • पीएचडी करने के लिए आपको ग्रेजुएशन करने के बाद में पोस्ट ग्रेजुएशन करना पता हैं इसके बाद हि इसके लिए आप योग्य बनते हैं.
  • ध्यान रहे पोस्ट ग्रेजुएशन में आपके कम से कम 60% अंक होने चाहिये यदि आब sc और st category से आते हैं तो आपको कम से कम ५५% मार्कश लाने होंगे.
  • पीएचडी आप उन्ही विषयों में कर सकते हैं जिन विषयों में आपने अपना ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन किया हो आपको अन्य विषय नही मिल सकते हैं.
  • इसके लिए आपको NEET की परीक्षा भी देनी पद सकती है.

यदि आपके पास में ये शैक्षणिक योग्यताएं हैं तो आप पीएचडी के लिए योग्य हैं.

पीएचडी के लिए तैयारी कैसे करें

शायद आपको पता होगा की पीएचडी भारत की सबसे बड़ी डिग्री होती हैं इसीलिए इसका कोर्स भी बहुत हि ज्यादा कठिन होता हैं जिसके कारण सभी लोग इसके लिए तैयारी नही करते हैं.

यदि आप लोगो ने ठान लिया की आपको पंड करना हैं तो आपको पता होना चाहिये की पीएचडी के लिए तैयारी कैसे करें?(How to prepare for PhD?). पीएचडी की तैयारी करने के लिए आप निम्न्लिखित बिन्दुओं को पद सकते हैं.

  • यह निश्चित होने के बाद में की आप पीएचडी हि करेंगे तो मै आपको बता दू की इसके लिए सबसे पहले आपको एक विषय को चचुनना होता हैं और ध्यान रहे आप उन विषयों में से किसी एक को हि चुन सकते हैं जिनको आपने अपने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में पढ़ा हैं.
  • पीएचडी करने का एक बहुत हि बड़ा निर्णय होता हैं क्योकि इसमें आपको अपने जीवन के 5 वर्ष देने होते हैं तो आप उन्ही विषयों को चुने जिनमे आपको रूचि हो अन्यथा आपको आगे चलाकर समस्या का सामना करना पढ़ सकता हैं और आगे चलकर आप अपने विषयों को भी बदल नही पाएंगे.
  • पीएचडी करने से कई वर्षो पहले आपको इसके बारे में सोचना होता हैं क्योकि अपने ११th और 12th में आपको उन्ही विषयों को चुनना होता हैं जो विषय आपके आचे लगे हैं.
  • अब इसके बाद में बात आती हैं की ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की subjects के साथ करें क्योकि पीएचडी में वाही विषय मान्य होते हैं जिनको आपने अपने पोस्ट ग्रेजुएशन में लिए हैं. इसमें विषय को चुनना बहुत बड़ा काम होता हैं इसके लिए आपको पहले से हि योजना बनानी होती हैं.
  • इसके अलावा आपको कई अन्य स्रोतों को भी देखन चाहिये जहाँ पर आपको इससे सम्बंधित जानकारी मिलती रहे और आपको उन लोगों से संपर्क बनाने की कोशिश करनी चाहिये जो लोग पीएचडी कर चुके हैं या पहले से हि कर रहे हैं इससे आपको आगे चलकर बहुत मदद मिलेगी और आप एक सही राह तक जा पाएंगे.
जरूर पढ़े..  HDR Full Form in Hindi | HDR का फुल फॉर्म क्या होता है?

तो आप इन सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए पीएचडी कर सकते हैं.

PhD के लिए कौन सा विषय सबसे अच्छा हैं?

पीएचडी करने वालो के मन में हमेशा एक सवाल तो आता हि हैं की वो किस विषय से पीएचडी करें. तो आज आपको उस विषय के बारे में जानकारी मिलने हि वाली हैं.

दोस्तों पीएचडी एक दीर्घ कालीन कोर्स या डिग्री होती हैं इसमें आपको अपने जीवन का बहुत अधित समय देना पड़ता हैं. यदि आप किसी के कहने पर आकर कोई विषय ले लेते हैं तो आप आगे चल कर उससे ऊभ सकते हैं .

इसलिए सबसे बेहतर यही हैं की आप उस विषय को चुने जिसमे आपको सबसे अधिक रूचि हो यदि आप किसी और के कहने पर आकर पीएचडी में विषय चयनित कर लेते हैं तो आपका पीएचडी तो पूरा हो जायेगा लेकिन आपको वो ख़ुशी कभी भी नही मिलेगी.

मुझे उम्मीद हैं आपको पता चल गया होगा की PhD के लिए कौन सा विषय सबसे अच्छा हैं?

PhD के लिए आवश्यक Documents

यदि आप लोग पीएचडी करना चाहते हैं तो आपके पास कुछ आवश्यक डाक्यूमेंट्स होना बहुत हि आवश्यक है इसके बाद हि आप इसमें प्रवेश ले सकते हैं

आधार कार्ड

आधार कार्ड आज के समय का सबसे महवपूर्ण डॉक्यूमेंट बन चूका हैं इसके बिना कोई भी कार्य नही होता हैं बिना इसके आप भारत के के किसी भी कॉलेज या स्कूल में एडमिशन भी नही ले सकते हैं और पीएचडी के लिए यह एक बहुत हि आवस्यक डॉक्यूमेंट हैं जो आपके पास होना हि चाहिये.

Intermediate Marksheet

जब भी आप पीएचडी में एडमिशन लेने के लिए जाते हैं तो आपको अपने इंटरमीडिएट की मार्कशीट साथ में ले जाना होता हैं इससे यह पता चलता हैं की आपने कब और कहा से इंटरमीडिएट किया हुआ हैं.

Graduation Certificate

ग्रेजुएशन सर्टिफिकेट भी आपको अपने साथ लाकर जाना होगा इससे यह प्रमाणित होता हैं की आप स्नातक हैं और इससे आपके द्वारा चुने गये विषयों के बारे में भी जानकरी प्राप्त होती हैं.

Post Graduation Certificate

Post Graduation Certificate यह एक सबसे महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट हैं इसके बिना आप पीएचडी में एडमिशन नही ले सकते हैं क्युकी इसके आधार पर हि आपको अपने पीएचडी के कोर्स के विषय निर्धारित किये जाते हैं.

जब भी आप पीएचडी के एडमिशन लेने के लिए जाए तो इन सभी डाक्यूमेंट्स को अपने साथ में हि ले कर जाएँ.

पीएचडी के लिए सबसे अच्छे कॉलेज(Best colleges for PhD)

PhD करने के लिए जितना जरूरी है सही विषय चुनना उतना हि जरूरी हैं तो ध्यान रहे जब भी आप कॉलेज चुने तो कई जगह पता कर ले और वहा के स्टूडेंट्स से रिव्यु भी लें. आपकी सुविधा के लिय्व भारत के कुछ बेस्ट कॉलेज की सूची निम्न्लिखित है.

  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), दिल्ली
  • दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • मुंबई विश्वविद्यालय
  • कलकत्ता विश्वविद्यालय
  • एमिटी यूनिवर्सिटी नोएडा
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
  • जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी बैंगलोर
  • राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़

पीएचडी की तैयारी कैसे करें?

पीएचडी सबसे कठिन कोर्स होता हैं इसके करना सभी के बाद की बात नही होती हैं और जो भी इस कोर्स को कर लेता हैं वो अपने विषय का ज्ञाता बन जाता हैं.

अगर आपने भी आगे चलाकर पीएचडी करने का विचार बना लिया हैं और आपको नही पता हैं की पीएचडी की तैयारी कैसे करें तो मैं आपको बहुत आसान तरीके से बह्तौंगा जिससे आप सब कुछ समाज जाएँ.

  • सबसे पहले तो आप अंदर से आचे से सोच समझ ले इसके बाद में हि आप इस 5 वर्षो के कोर्स को करने का निर्णय ले.
  • इसके बाद आपको वो विषय चुन लेना हिं जिसमे आपको सबसे ज्यादा रूचि हो.
  • वाही विषय आपको ११th और 12th में भी लेना हैं यदि आप नही लेते हो आगे चाकर उस विषय में पीएचडी नही कर पाएंगे.
  • उसी विषय से आपको अपना ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन भी करना हैं ये बहुत हि जरूरी होता हैं क्योकि इनके आधार पर हि आपको पीएचडी में विषय चुनने का विकल्प मिलता हैं.
  • इसके बाद में आपको उस विषय से सम्बंधित किताबे पढनी हैं और ऑनलाइन भी सर्च करके उसके बारे में अधित के अधिक जानकरी प्राप्त करते रहना हैं.

पीएचडी करने की यात्रा आपके ११th और 12th से हि प्रारंभ हो जाती हैं आपके जिस विषय से प्यार है वो आपको कभी भी चोदना नही हैं क्योकि वाही आगे चलकर आपको पीएचडी होल्डर बनाएगा इसके बाद आप अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा पाएंगे.

PhD करने के फायदे?

दोस्तों आप लोगो ने पीएचडी के बारे में ज्यदातर सभी जानकारी तो प्राप्त कर ली लेकिन आप सोच रहे होंगे की पीएचडी करने के बाद हमे क्या क्या फायदे होने ये प्रश्न आना जरूरी भी हैं क्योकि यदि आप किसी चीज़ को करने में इतना समय दे रहे हैं और आपको उसका कोई फायदा न हो ये भी सही नही हैं

तो मैं आपको बता दूँ की आज के समय में पीएचडी करने के बहुत सारे फायदे हैं जिनमे से कुछ निम्न लिखित हैं.

  • पीएचडी करने का सबसे बड़ा फायदा आपको सम्मान मिलना हैं क्योकि अगर एक बाद आप पीएचडी कम्पलीट क्र लेते हैं तो आपको सरकारी या प्राइवेट हर जगह सम्मान मिलेगा.
  • इसके बाद आपको अपने नाम के आगे डॉक्टर लगाने का भी सम्मान मिलेगा यदि आप जानते होंगे तो आज के समय में कोई भी ऐसा व्यक्ति नही होगा जो पीएचडी करने के बाद सम्मानित न किया जाता हो.
  • पीएचडी करने के बाद आप किसी भी यूनिवर्सिटी या कॉलेज lecturar या प्रोफेसर बन सकते हैं किसी भी संस्थान में सबसे सम्मानित व्यक्ति प्रोफेसर हि होता हैं.
  • पीएचडी करने के बाद आपके सामने कई सारे कमाई के रास्तें खुल जातें हैं आप अपनी सुवधा के अनुसार अपने मन पसंद का प्रोफेशन चुन सकते हैं.

यहाँ पर मैंने आपसे बहुत कम फायदे हि साझा किये हैं पीएचडी करने के अन्य बहुत सारे फायदे हैं जो आपको अन्य किसी प्रोफेशन में शायद हि मिले.

PHD Full Form in Hindi | पीएचडी से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी.

PHD Full Form in Hindi

FAQs – PHD Full Form in Hindi

आप लोगो द्वारा PHD Full Form in Hindi के बारें में पूछे गए प्रश्न जिनके उत्तर निम्न्लिखित हैं.

पीएचडी करने से क्या होता है?

पीएचडी करने से आप उस विषय के ज्ञाता बन जाते हैं जिस विषय में आपने पीएचडी की हुई हैं और आप अपने नाम के आगे डॉक्टर लागने का स्वभाग्य प्राप्त करते हैं इसके साथ हि आपको हर जगह सम्मान भी मिलता हैं.

पीएचडी का कोर्स कितने साल का होता है?

पीएचडी का कोर्स 3 से 5 वर्षो का होता हैं यदि हम भारत की बात करें तो पीएचडी 5 वर्षो का होता हैं और वाही जापान जैसे देशो में 3 वर्षो का होता हैं.

पीएचडी में कौन कौन से विषय होते हैं?

पीएचडी में काफी सारे विषय होते हैं लेकिन आप उन्ही विषयों से पीएचडी कर सकते हैं जिनको आपने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन करते समय लिया था.

पीएचडी करने के बाद कौन सी नौकरी मिलती है?

पीएचडी करने के बाद में आपको यूनिवर्सिटीज में प्रोफेसर और lecturar की पद की नौकरी मिलती हैं इसके आलवा आप जो भी करना छाए वो कर सकते हैं क्योकि पीएचडी करने के बाद आपके सामने रोजगार के बहुत सारे विकल्प खुल जाते हैं.

दुनिया की सबसे बड़ी डिग्री कौन सी है?

दुनिया में बहुत सारी डिग्रीयां होती हैओं परन्तु पीएचडी दुनिया की सबसे बड़ी डिग्री हैं और यह सबसे ज्यादा लम्बे समय की होती है.

आज आपने क्या सीखा – PHD Full Form in Hindi

आज की पोस्ट में आपने सीखा की PHD full form in hindi या PHD ka full form क्या होता हैं और what is the full form of phd? इसके आलवा PHD क्या होता हैं? PHD के लिए eligibility, PHD कैसे करें? पीएचडी कोर्स के लिए फीस, PHD करने के फायदे और भी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जो आपको पीएचडी के बारे में पता होनी चाहिये.

मुझे उम्मीद हैं की आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी और आपको दोबार गूगल पर PHD full form in hindi सर्च करने की आवस्यकता नही पड़ेगी.

यदि आपका कोई दोस्त पीएचडी करना चाहता हैं तो आप उसे यह पोस्ट शेयर कर सकते हैं जिससे उसको भी PHD full form in hindi से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी मिल जाये.

धन्यवाद.

PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi, Ph.D. Full Form in Hindi.PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi,PHD Full Form in Hindi.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment